इंसानियत हुई शर्मसार! 3 शवों के पोस्टमार्टम के लिए मांगे 2 हजार, बोले- 500 रुपये डिस्काउंट

Agra Family Suicide Post Mortem House Controversy


Agra Post Mortem House Illegal Recovery: देश के सरकारी दफ्तरों में काम कराने के लिए रिश्वत देनी पड़ती है, लेकिन क्या शव का पोस्टमार्टम कराने के लिए रिश्वत दी है? सवाल अजीब लगा होगा, लेकिन इंसानियत तब शर्मसार हो गई, जब पोस्टमार्टम हाउस में मानवता बिकी। शवों का पोस्टमार्टम करने के लिए सौदा हुआ? पोस्टमार्टम करने के बदले पैसे मांगे गए।

कहा गया कि 2 हजार रुपये दो, पोस्टमार्टम कराओ। यही नहीं 500 रुपये का डिस्काउंट भी ऑफर किया गया। लॉयर्स कॉलोनी निवासी मां-बेटे और बच्चे के शवों का पोस्टमार्टम कराना था, लेकिन सौदा और डिस्काउंट की बात सुनकर उनके परिजनों का मुंह खुला रह गया। मामला संज्ञान में आने पर वकील ने CMO को नोटिस भेजा, जिसमें लिखा था- CMO साहब, बंद कराइए अपने अस्पताल में हो रहा लाशों का सौदा।

कहां चल रहा यह गंदा धंधा?

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पोस्टमार्टम करने के लिए पैसे मांगने का धंधा उत्तर प्रदेश के आगरा में चला रहा है। लॉयर्स कॉलोनी निवासी तरुण चौहान (42) उनके बेटे कुशाग्र (12) और मां बृजेश देवी (72) ने कर्ज नहीं चुका पाने से परेशान होकर सुसाइड कर ली थी। तरुण आगरा के मशहूर अधिवक्ता दिवंगत मान सिंह चौहान का बेटा था, लेकिन तीनों शवों का पोस्टमार्टम करने के लिए अस्पताल के पोस्टमार्टम हाउस के कर्मचारियों ने फीस मांगी।

जब मृतक तरुण के ताऊ के बेटे विक्की चौहान ने कहा कि तीनों शव एक ही परिवार के सदस्यों के हैं तो कर्मचारियों ने 500 रुपये डिस्काउंट देने का ऑफर दिया। विक्की ने यह बात लोगों को बताई तो लॉयर्स कॉलोनी निवासी वरिष्ठ अधिवक्ता रमाशंकर शर्मा ने CMO अरुण प्रकाश श्रीवास्तव को नोटिस भेज दिया, जिसमें उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है।

पहले भी वायरल हुआ था वीडियो

बता दें कि आगरा में सरकारी अस्पताल के पोस्टमार्टम हाउस में वसूली की यह पहली घटना नहीं है। मार्च 2023 में भी एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें पोस्टमार्टम हाउस से शव ले जाने के लिए सफाई कर्मचारियों ने पैसे मांगे थे। मृतक के भाई से पैसों की मांग की गई थी, यह कहते हुए पोस्टमार्टम हाउस में शवों का रखरखाव करने के लिए भी पैसे मांगे जाते हैं।

वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद CMO अरुण प्रकाश श्रीवास्तव ने एक्शन लेते हुए जांच के आदेश दिए थे। पोस्टमार्टम हाउस में चल रही वसूली रोकने के लिए जांच टीम गठित करने का आश्वासन भी दिया था, बावजूद इसके सरेआम वसूली का खेल चल रहा है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *