Farmers Protest 2.0: किसान आंदोलन क्या राजनीति से प्रेरित है?

Farmers Protest 2.0


Farmers Protest 2.0 Kisan Andolan Delhi Chalo March: केंद्र सरकार के खिलाफ किसानों ने एक बार फिर मोर्चा खोल दिया है। उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली की ओर आने लगे हैं। किसान संगठनों ने 13 फरवरी यानी आज ‘दिल्ली चलो’ का ऐलान किया है। इसे देखते हुए दिल्ली में 12 मार्च तक धारा 144 लागू कर दिया गया है। किसान न्यूनतम तापमान (MSP) पर कानूनी गारंटी की मांग कर रहे हैं। उनका यह विरोध प्रदर्शन ऐसे समय में हो रहा है, जब कुछ ही महीने बाद लोकसभा चुनाव होना है। बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार लगातार तीसरी बार सत्ता पर काबिज होना चाहती है।

क्या विरोध प्रदर्शन राजनीति से प्रेरित है?

केंद्र सरकार ने पिछले दिनों किसानों को खुश करने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह और हरित क्रांति के जनक डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन को भारत रत्न देने का ऐलान किया। चरण सिंह को किसानों के हितों की वकालत करने के लिए जाना जाता है। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या किसानों का विरोध प्रदर्शन राजनीति से प्रेरित है या शिकायतें वास्तविक हैं।

किसान नेताओं के साथ बातचीत करने के लिए तीन मंत्री तैनात

दरअसल, केंद्र सरकार ने किसान नेताओं के साथ बातचीत करने के लिए तीन मंत्रियों को तैनात किया है। राकेश टिकैत इस विरोध प्रदर्शन में शामिल नहीं होंगे। किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने से रोकने के लिए, टिकरी, सिंघू और गाजीपुर सहित दिल्ली की सीमाओं पर अर्धसैनिक बलों के साथ पुलिस को तैनात किया गया है। दिल्ली आने वाले सड़क मार्गों पर सीमेंट ब्लॉक और कीलें लगाई गई हैं।

यह भी पढ़ें: Farmers Protest 2024: किसानों का ‘दिल्ली चलो’ मार्च 2020 के आंदोलन से कितना अलग है? 5 प्वाइंट्स में समझें

दिल्ली बॉर्डर पर तैनात 5000 से अधिक सुरक्षाकर्मी

किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने से रोकने के लिए बड़े कंटेनर भी बॉर्डर पर रखे गए हैं। वहीं, बॉर्डर पर कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए अर्धसैनिक बलों सहित 5,000 से अधिक सुरक्षाकर्मी तैनात हैं। बता दें कि 12 फरवरी को तीन केंद्रीय मंत्रियों की किसान नेताओं के साथ बातचीत के विफल होने के बाद किसान संगठनों ने ‘दिल्ली चलो’ का ऐलान किया।

यह भी पढ़ें: ‘बॉर्डर सील, इंटरनेट बैन, धारा 144, बसें बंद’; दिल्ली पुलिस की ट्रैफिक एडवाइजरी पढ़कर ही घर से निकलें





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *