सैलरी से रोज़ाना इतने रुपये बचाना आपको बना देगा करोड़पति, जानिए कैसे?

Salary savings formula


Money Saving Formula: आज के समय में महंगाई इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि इंसान जो कमाता है उसमें घर चलाना ही इतना मुश्किल हो जाता है कि वो आगे के लिए क्या ही सेविंग्स करेगा? ऐसे में हर किसी व्यक्ति को सेविंग्स करने का फॉर्मूला चाहिए होता है। चलिए आज हम आपको ऐसे फॉर्मूले के बारे में बताते हैं कि अगर आप उस हिसाब से चलें तो जल्द ही करोड़पति बन जाएंगे।

कैसे काम करता है ये फॉर्मूला ?

ये फॉर्मूला अप्लाई होता है आपकी हर महीने की इनकम से। इसका नाम है 50:30:20 फॉर्मूला। चलिए इसे सबसे पहले 3 भागों में तोड़ते हैं। सबसे पहले आता है, 50 यानी आपकी सैलरी का 50 फीसदी हिस्सा ज़रूरी खर्चों के लिए निकाल लें। फिर 30 फीसदी हिस्सा अपने और अपने परिवारवालों पर होने वाले खर्चों के लिए निकाल लें और आखिर में अपनी इनकम का 20 फीसदी हिस्सा कुछ भी करके बचा लें।

इस तरह आप देखेंगे कि आपकी इनकम कि सेविंग्स में कितनी ज्यादा बढ़ोत्तरी होती है।

यह भी पढ़ें: सिर्फ Paytm, Google Pay ही नहीं इन 10 UPI Platforms से आप भेज सकते हैं पैसे, देखिए पूरी लिस्ट

उदाहरण से समझें

उदाहरण से समझें तो अगर आप एक कंपनी में नौकरी करते हैं और आपकी हर महीने की सैलरी 80 हज़ार है तो उसका 50 फीसदी यानी 40 हज़ार ज़रूरी खर्चों के लिए निकाल लें, फिर 30 प्रतिशत यानी 24000 रुपये घर के बाकी ज़रूरी खर्चों के लिए निकाल लें और आखिर में सैलरी का 20 प्रतिशत यानी 16000 अपनी बचत में ड़ाल दें। इस तरह आप हर महीने अपनी 80 हज़ार की सैलरी में से 16000 बचा सकते हैं।

अगर आप हर महीने 16 हज़ार रुपए एसआईपी में लगाते हैं तो सालाना आप 1,92,000 रुपए निवेश करेंगे।

पैसा बचाने के लिए चलाई जा रही सरकारी स्कीमें

राष्ट्रीय बचत समय जमा खाता

इस सकरारी योजना में आप 1 2 3 और 5 सालों के लिए निवेश कर सकते हैं। इसमें कम से कम 1000 और ज्यादा से ज्यादा कितने भी पैसों का निवेश किया जा सकता है। इसके तहत साधारण ब्याज दिया जाता है।

नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC)

यह भारत सरकार द्वारा समर्थित एक टैक्स सेविंग इन्वेस्टमेंट स्कीम है. सरकारी समर्थन के ही कारण इसमें आपको गारंटीड रिटर्न मिलता है और जोखिम कम रहता है। इसकी ब्याज दर हर तिमाही में वित्त मंत्रालय तय करता है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *